इतनी बेचैनी से तुमको किसकी तलाश है,
वो कौन है जो तेरी आंखों की प्यास है,

जबसे मिला हूं तुमसे यही सोचता हूं मैं,
क्यों मेरे दिल को हो रहा तेरा एहसास है,

जिंदगी के इस मोड़ पे तुम आके यूं मिले,
जैसे कि कोई मंजिल मेरे इतने पास है,

एक नजर की आस में तकता हूं मैं तुझे,
अब देख तेरे खातिर एक आशिक उदास है।

itanee bechainee se tumako kisakee talaash hai,
vo kaun hai jo teree aankhon kee pyaas hai,

jabase mila hoon tumase yahee sochata hoon main,
kyon mere dil ko ho raha tera ehasaas hai,

jindagee ke is mod pe tum aake yoon mile,
jaise ki koee manjil mere itane paas hai,

ek najar kee aas mein takata hoon main tujhe,
ab dekh tere khaatir ek aashik udaas hai.